हमे डायरी क्यों और कैसे लिखनी चाहिए | How to Write Diary Hindi Tips

How to Write Diary – हेलो दोस्तो, जिंदगी में कई बार हमें महसूस होता है कि हम कुछ कहना चाहते हैं पर किसी से कह नहीं सकते या हमारी बात कोई समझ नहीं पाता।

कुछ बातें ऐसी होती है जो हमें अंदर ही अंदर खाए जाती है, पर इसका solution नहीं मिलता और इससे बढ़ता है stress. अपने दिल की अंदर की बातों को जाहिर करने का सबसे अच्छा तरीका है Write a Diary.

How to Write Diary

क्या आपको पता है, जितने भी महापुरुष और वे लोग जो अपनी लाइफ में आज सफल हुए है उन सब की एक कॉमन आदत थी – डायरी लिखना।

वह अपनी लाइफ में जितने भी busy हो जाए, पर हर रोज डायरी में लिखना नहीं  भूलते थे। शायद यही उनकी सक्सेस का राज है।

ये अपनी डायरी में वह उन बातो का जिक्र करते हैं जो उनके अंदर है, उनके सपने, जो वह चाहते हैं, जो उनकी कमियां है,  उन पर गौर कर अपनी लाइफ को अच्छे से जीते हैं। तो आइए दोस्तों इस पोस्ट में हम जानेंगे कि How to Write Diary.

01. मुझे डायरी क्यों लिखनी चाहिए? writers diary

दोस्तों जिंदगी हमें एक बार मिलती है जिसमें हमारी औसत आयु लगभग 60 या 70 वर्ष है।  इसमें भी बहुत सारे साल तो हम बचपन में ही गुजार देते हैं। स्टूडेंट लाइफ में हमारे पास इतना टाइम नहीं होता कि हम डायरी लिख सकें।

जब हमारे ऊपर पारिवारिक बोझ बढ़ता है तब बहुत सी ऐसी बातें होती है जो हमारे दिमाग से निकलती जाती है। हर तरफ ध्यान रखने के लिए हम डायरी को लिखते हैं जिससे लाइफ का हर पहलू पर हमारी पकड़ बन सके।

जब आप बूढ़े हो चुके होगे, तब आपको अपनी जवानी के एक-एक दिन बहुत याद आएंगे। अपने जिंदगी के सघर्ष को, आपके अनुभव को दूसरी पीढ़ी को सिखाने के लिए डायरी में लिखे।

पूरे दिनभर में आप जो सीखते हैं, आपके लक्ष्य क्या है, आप क्या चाहते हैं इसके बारे में detail में डायरी में लिख सकते हैं। इसलिए हम सभी को डायरी लिखनी चाहिए।

02. डायरी कैसी होनी चाहिए?

डायरी में हमेशा Date होनी चाहिए और कैलेंडर के हिसाब से आप उसे आसानी से लिख सकते हैं। अगर आप सिर्फ नोट्स बनाना चाहते हैं तो सिंपल नोटबुक में को भी आप डायरी बना सकते हैं।

How to Write Diary

०3. डायरी में क्या क्या लिखना चाहिए? how to write daily diary

यह आप पर डिपेंड करता है कि आपकी सोच क्या है, आपके लक्ष्य क्या है, इस बारे में डिटेल में आप लिख सकते हैं।

हर दिन एक जैसा नहीं होता और हर दिन में कुछ स्पेशल हो यह मुमकिन नहीं है। आप क्या लिख सकते हैं इसके बारे में हम विस्तार से चर्चा करेंगे-

अगर आप चाहें, तो “डियर डायरी (Dear Diary)” के साथ शुरुआत करें, अपनी डायरी को दोस्त बनाये और उससे बात करते हुए अपने दिन भर के काम को लिखे।

अपने खुद के साथ बात करने या लिखने के बजाय ऐसा फील करे  जैसे कि आप अपने किसी फ्रेंड से बात कर रहे हैं। ये आपके लिए उस वक़्त और भी मददगार साबित होगा, जब आपने अभी-अभी बुक लिखना शुरू किया हो।

खुद को समय जरूर दे,आपकी पहली जरूरत खुद आप है।

04. To-Do list बनाएं

दुनिया का कोई भी ऐसा इंसान नहीं है जिसके पास कोई काम नहीं है। बेरोजगार से लगा कर बिजनेसमैन तक सभी के पास 24 घंटे हैं और उन 24 घंटों में हर एक के पास कोई ना कोई काम तो होता है।

आप डायरी में हर दिन के लिए एक काम की लिस्ट तैयार करें जिससे आपको उसी दिन पूरा करना है।

ऐसा करने से आपकी प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी और आपके काम आसानी से हो जाएंगे। To-do list में जरूरत से ज्यादा काम ना डाले जिसे आप 1 दिन में न कर पाए।

जो काम सबसे कठिन है वह सबसे पहले लिखे और जो काम बाद में किया जा सकता है उसे लास्ट में लिखें अगर कोई काम आपका छूट जाए तो उसे अगले दिन उसे करें।

05. आपका लक्ष्य क्या है इसके बारे में लिखें

जिंदगी में जो भी आपकी इच्छा है, जो भी आपको करना है उसके बारे में डिटेल में लिखें। लिखे कि आप क्या पाना चाहते हैं आपकी जिंदगी का मकसद क्या है।

ऐसा लिखते रहने से आपने एक सोच बनेगी जिससे आप अपने लक्ष्य पर फोकस करेंगे। यह डायरी के पहले पन्ने पर लिखे जिससे खोलते ही आप की नजर पड़े और आप उसे पाने के लिए अपना प्लान तैयार करें।

सपने और लक्ष्य में एक ही अंतर है,सपने के लिए बिना मेहनत की नींद चाहिए,और लक्ष्य के लिए बिना नींद की मेहनत।

06. प्लान बनाएं

To-Do दिन भर के काम की एक list है जिसे आप अपने टास्क को निपटा सकते हैं। पर साल भर में आपका टारगेट क्या होगा यह आपके प्लान बनाने तो डिपेंड करता है।

सोचे कि इस साल आपको क्या करना है, उसे अपनी डायरी के फ्रंट में लिखें और उसके लिए जो भी मुमकिन task है उसे  डायरी में दिन के हिसाब से बाट दे और वहां पर लिख दे कि आज मुझे क्या करना है।


जैसे मुझे अंग्रेजी सीखनी है तो मैं डायरी के फ्रंट पेज पर learn English लिखता हूं। और उसके नीचे सीखने लायक सारी सिलेबस के points लिख दूंगा।

दिन के 1 या 2 घंटे आप उसे दीजिए और डायरी में To-Do में लिख दे कि आज मुझे टॉपिक इंग्लिश का क्लियर करना है।

डायरी के End में लिखे की क्या मैंने इंग्लिश सीख ली? अगर आपने सीख ली तो उसके बारे में डिटेल में लिखें। और अगर नहीं सीखी तो उसके बारे में लिखें कि आपने यह क्यों नहीं किया।

अपनी परेशानियों को लिखें और फिर से कोशिश करें। इस तरह साल भर के बहुत सारे लक्ष्य आप निर्धारित कर उस पर मेहनत कर सकते हैं।

How to Write Diary

07. लिखे कि आपकी कमियां क्या है

इंसान की कमियां इंसान खुद ही जानता है पर वह मानता नहीं की उसमें भी कुछ गलतियां हैं। इसलिए अपनी डायरी से कुछ भी नहीं छुपाये और सब कुछ लिखे जो आपको लगता है कि मैंने गलत किया है। इससे आपके व्यक्तित्व में सुधार आएगा और आपकी सोच अच्छी होगी।

अच्छा रहेगा कि आपकी कमियों को red pen से लिखे इससे आपका ध्यान आपकी गलतियों पर जल्दी जाएगा।

08. आज आपने क्या सिखा है?

अपनी डायरी के 1 दिन के पेज पर लिखे की आज आपने क्या नया सीखा। अगर आपने दिन भर में कुछ भी नहीं सीखा है तो आपका दिन बेकार गया है। 

दिन के 2 घंटे नया सीखने में बिताये और उसे अपनी डायरी में लिखे। यकीन मानिए दोस्तों जब आप अपनी पुरानी डायरी को खोलोगे तो आपके एक्सपीरियंस से आप चौक जाओगे कि इतना कुछ मैंने अपनी लाइफ में किया है। आपका सिखा हुआ आगे बहुत काम आएगा।

09. अपनी फीलिंग्स के साथ फोटो भी लगाएं – diary for writing poems

कई सारे पल ऐसे होते हैं जो खुशियों से भरे होते हैं, उन खुशियों को अपनी डायरी में लिखे और उसके साथ फोटो भी लगाएं इससे आपके डायरी  इंटरेस्टिंग होगी और आपकी यादें और भी मजबूत होगी।

How to Write Diary

10. जैसा मन करे वैसा लिखें – personal diary

क्या आपको लगता है कि आपकी हैंडराइटिंग खराब है, आप अच्छा नहीं लिख सकते, आपको लिखना नहीं आता तो आप इन चीजों से ना घबराए।

डायरी आपकी पर्सनल होती है जिसे सिर्फ आप ही पढ़ सकते हैं इसलिए अगर आपको लिखना नहीं आता है या आपकी राइटिंग खराब है, फिर भी आप लिखना ना छोड़े।

यह आपकी जिंदगी के पर्सनल नोट्स है इसे हमेशा छुपा कर रखें। यही तो एक ऐसी दोस्त है जो जिसके साथ आप अपने फीलिंग शेयर कर सकते हैं।

11. अलग-अलग कलर के पेन के साथ लिखें – personalised photo diary

डायरी में एक जैसे pen से लिखने पर आपको यह पता नहीं लगेगा कि आप किस टॉपिक के बारे में लिखा है। अगर आप हर एक टॉपिक के बारे में अलग-अलग पेन से लिखे तो आप की डायरी में को आप आसानी से समझ सकते हैं जैसे

Green Pen – जो भी आपने दिन भर में सीखा है उसे Green Pen से लिखे।

Red Pen – अपनी कमियों और खराब एक्सपीरियंस को red pen से लिखे ताकि आपको यह पता चले कि ऐसी गलती दोबारा नहीं करनी है।

Blue Pen- बाकी सभी चीजें आप ब्लू पेन से लिख सकते हैं इसका मतलब है कि आप को यह काम करने है।

How to Write Diary

12. क्या करें जब डायरी लिखने का टाइम नहीं हो

हर इंसान को दिन में 24 घंटे मिलते है और उन 24 घंटों में वह कुछ भी कर सकता है।  डायरी लिखने के लिए तो सिर्फ 10 मिनट ही काफी है।

क्या दिन भर में आप डायरी का एक पत्ता भी नहीं लिख सकते, ऐसा मुमकिन नहीं है। जो भी आपके दिमाग में है या जो भी आपने दिन भर में किया उसे एक डायरी में लिखे।

हो सकता है एक-दो दिन का बीच में गैप हो जाए पर कोशिश करें कि अपनी डायरी में कुछ ना कुछ लिखें। अगर आपने एक भी दिन अपनी डायरी में कुछ भी नहीं लिखा तो आप मान लीजिए उस दिन आपने कुछ नहीं किया।

Conclusion

डायरी लिखना बहुत ही अच्छी बात है बहुत सारे लोग जो अपनी लाइफ में बहुत सक्सेस हो चुके हैं उनकी आदत थी कि वह रेगुलर डायरी लिखते थे।

तो दोस्तों सोच क्या रहे हो अभी तक आपने डायरी लिखना चालू नहीं किया है तो आज से ही डायरी लिखना शुरू करें और अपनी लाइफ को पन्नों में उतारे।

Default image
Viren Raikwal
एक अच्छे ब्लॉग के लिए कंटेंट होना जरुरी है, पिछले 5 साल से मेरी सारी कोशिश इसी पर रहती है की सूचना के इस सागर से आपके लिए मूल्यवान काम की बाते ला सकू। धन्यवाद
Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: