कंप्यूटर का पूरा परिचय एक पोस्ट में | What is Computer

What is Computerसीधे शब्दों में कहा जाए तो आज की दुनिया में कंप्यूटर “सब कुछ है”। कंप्यूटर के बिना कोई भी काम मुमकिन नहीं है। यह लगभग सभी काम कर सकता है जो इंसान की Productivity को बढ़ाये। हर क्षेत्र में इसका इस्तेमाल आज आम बात है ।

what is computer

कैसे हुआ कंप्यूटर का जन्म ? What is the History of Computer

क्या आपको पता है कि मनुष्य Computer का इस्तमाल 4000 साल से करता रहा है। जी हां दोस्तों चार हजार साल पहले इंसान गणना करने के लिए एक Computer यूज करता था जिसका नाम था Abacus। यह एशिया, यूरोप और रूस में यूज़ किया जाता था।

यह पहला Device था जो सिर्फ गणना करने के काम आता था। इसमें कुछ मोती होते थे जिन्हें आगे, पीछे कर गणना की जाती थी। इसी को आधार मानकर Computer का आविष्कार किया गया।

आज यह इतना इंपोर्टेंट है कि सारे नए आविष्कार Computer पर डिपेंड होते हैं। पर क्या आपको पता है कि Computer का आविष्कार का मुख्य purpose सिर्फ गणना करना था। जो आज के Calculator भी आसानी से कर देते हैं।

कोई भी खोज एक साथ नहीं होती इसलिए Computer को आज जैसा बनने में भी कई साल लगे। इनको Generation of Computer कहा जाता है। इनको 5 भागों में बाटा गया है।

What is Computer Definition

A computer is a machine that can be instructed to carry out sequences of arithmetic or logical operations automatically via computer programming.

कंप्यूटर एक ऐसी मशीन है जो डाटा को प्रोसेस कर रिजल्ट देती है।  कंप्यूटर अंग्रेजी शब्द Computer से बना है जिसका अर्थ है गणना करना। कंप्यूटर का अविष्कार चार्ल्स बेबेज द्वारा किया गया।

Computer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो कि यूज़र को डाटा इनपुट करवाता है और उससे प्रोसेस कर उसे आउटपुट से रिजल्ट देता है।

कंप्यूटर इंसानी भाषा को नहीं समझता।  वह सिर्फ प्रोग्रामों को ही समझता है। कंप्यूटर 0 और 1 के कोड में काम करते है जिन्हें बाइनरी कोड कहते है। कंप्यूटर को दो भागो में बांटा गया है –

  1. Software
  2. Hardware

Software को कंप्यूटर की आत्मा कहा जाता है।  जैसे बिना आत्मा के शरीर कोई काम नहीं करता वेसे ही बिना Software के कंप्यूटर कोई काम नहीं कर सकता।

सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का एक समूह है जो कंप्यूटर के Hardware को मैनेज करता है। प्रोग्राम एक निर्देशों का समूह है जो प्रोग्रामिंग भाषा में लिखा होता है। सॉफ्टवेयर 2 तरह के होते है – सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन साफ्टवेयर।

Hardware कंप्यूटर का शरीर होता है जिसे देखा और छुआ जा सकता है। इसमें कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर, प्रिंटर, मदरबोर्ड, मेमोरी चिप, इलेक्ट्रॉनिक सर्किट, एक्सपेंशन कार्ड, केबल, स्विच, आते जिसे आप छूकर महसूस कर सकते हैं।

Computer Features

Speed – कंप्यूटर बहुत ही High Speed में डाटा प्रोसेस करता है। कंप्यूटर, बहुत सारे डाटा को प्रोसेस करने के लिए केवल कुछ ही सेकंड लेता है। मतलब यह एक लाख डाटा को 1 सेकंड में ही प्रोसेस कर सकता है।

Accuracy – कंप्यूटर से मिले रिजल्ट पूरी तरह सही होते है। यदि कंप्यूटर में सही डेटा दर्ज किया जाता है तो प्राप्त परिणाम एकदम सही ही होगा। इसकी सटीकता को देखकर आज हर जगर कंप्यूटर का use किया जा रहा है।

High Storage Capacity – कंप्यूटर की बहुत बड़ी विशेषता है की यह बहुत बड़े पैमाने पर डाटा स्टोर कर सकता है । वह भी long टाइम के लिए। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है की जरुरत पड़ने पर हम कंप्यूटर की स्टोरेज कैपिसिटी भी बढ़ा सकते है।

Multiple Feature – कंप्यूटर पर कई तरह के काम किए जा सकते हैं। इसमें गेम्स को खेलने से लेकर लेटर टाइपिंग, ऑफिशियल वर्क, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, वेब डिजाइनिंग, ऑनलाइन फॉर्म, म्यूजिक सुनना, वीडियो देखना  जैसे कई important काम किये जा सकते हैं। इतने सारे feature के कारण की कंप्यूटर का उपयोग काफी बढ़ गया है। एक पर्टिकुलर काम को नहीं करता बल्कि यह बहुत सारे काम कर सकता है।


Hard Work – कंप्यूटर का सबसे बड़ा बेनिफिट है की ये कभी थकता नहीं। आपकी जितनी कैपिसिटी हो आप इसका यूज कर सकते हैं।

कंप्यूटर काम कैसे करता है?

इसके इतिहास के बारे में जानने से आपको यह समझ में आ गया होगा कि इंसान ने इसे बहुत सारे component को जोड़ तोड़ कर बनाया है आज भी यह जारी है। यह हमारे बहुत से काम आसानी से कर सकता है।

हर तरह के task के लिए अलग-अलग कंप्यूटर होते हैं। Desktop Computer हमारे डेली वर्क में काम आता है। इस कंप्यूटर में हम बहुत सारा काम कर सकते हैं जैसे डॉक्यूमेंट बनाना, फाइल मैनेजमेंट, सॉफ्टवेर इंस्टॉल करना, इंटरनेट चलाना, ऑनलाइन खरीदारी etc.

Types of Computers

ऐसे कई कंप्यूटर है जिस का काम अलग अलग होता है इसकी कैपेसिटी और पावर को देखते हुए इस को चार भागों में बांटा गया है

  1. Super Computer
  2. Mainframe Computer 
  3. Mini Computer
  4. Micro Computer

What is Super Computer

यह दुनिया के सबसे पावरफुल कंप्यूटर सिस्टम होते है इसके डाटा को प्रोसेस करने की शक्ति बहुत होती है। बड़े वैज्ञानिक कार्य व खोज इसी से किया जाता है जैसे NASA द्वारा अंतरिक्ष यान को लांच करना और उसे कंट्रोल करना।

उन यान से डाटा रिसीव करना, मौसम की भविष्यवाणी करना जिससे बरसात तूफान और भूकंप की जानकारी हमें पहले से प्राप्त हो जाए।

दुनिया का पहला सुपर कंप्यूटर 1964 में आया था जिसका नाम था CDC6600, भारत का पहला सुपर कंप्यूटर PARAM है।

What is Mainframe Computer

मेनफ्रेम कंप्यूटर यूं तो पावरफुल होते है पर यह सुपर कंप्यूटर की तुलना में कम शक्तिशाली होते है इसका यूज गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशन और बिजनेस में किया जाता है। इस कंप्यूटर को एक बड़े कमरे में रखा जाता है जहा इसे ठंडा रखने की सुविधा दी जाती है।

What is Computer

यह बहुत बड़ी मात्रा में डाटा को तेजी से प्रोसेस कर सकता है। यह कमर्शियल बैंक, एजुकेशन ऑफिस इंश्योरेंस, कंपनियों के लिए उनके ग्राहकों का डाटा संग्रहित करने के लिए यूज किए जा सकते हैं।

इसके अलावा मिनी कंप्यूटर आते हैं जो छोटे बिजनेस ऑर्गेनाइजेशन के लिए बहुत ही अच्छे होते हैं और माइक्रो कंप्यूटर जिसमें हमारा डेक्सटॉप लैपटॉप और टेबलेट स्मार्टफोन आते हैं।

What is Cloud Computer

यह एक on-demand रिसोर्स शेयरिंग data centers कंप्यूटर होते हैं, जिसका use इंटरनेट से किया जाता है।  जैसे आपको हाई पावर कंप्यूटर अपने डाटा को प्रोसेस करने के कम समय के लिए चाहिए तो आप उसे खरीदना नहीं चाहेंगे क्योंकि वह बहुत ही महंगा होता है।

इसलिए यह सिस्टम आपको लिमिटेड टाइम पीरियड के लिए कुछ हाई रिसोर्सेज जैसे servers, storage, databases, networking, software, analytics, and intelligence  प्रोवाइड करवाता है, जिसमें आप अपना Data process कर सकते हैं यह काफी एडवांस टेक्नोलॉजी है।

What is Computer

इसका उपयोग किसी भी डिवाइस से इंटरनेट से कर सकते हैं। काफी सारी वेबसाइट इसी क्लाउड होस्टिंग या कंप्यूटर पर इंस्टॉल होती है जो कि हम हमारी डिवाइस में यूज करते हैं ।

Conclusion

आलस के कारण ही कंप्यूटर का विकास हो पाया। आज इंसान अपने आपको कंप्यूटर पर डिपेंड कर रहा है क्योंकि हमारे सारे काम कंप्यूटर हमें याद करवाता है जिससे हमारी मेमोरी काफी कमजोर हो गई है।

फिर भी टेक्नोलॉजी को हम छोड़ नहीं सकते क्योंकि इसी ने दुसरे अविष्कारों को जन्म दिया है। अंतरिक्ष से लेकर जमीन के अंदर तक न जाने कितने ही राज हमने ऐसी टेक्नोलॉजी से खोले हैं। इसलिए कंप्यूटर सभी आविष्कारक का सेंटर पॉइंट है।

       
 

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here