मन को काबू में रखने के तरीके – Moral Stories in Hindi for Class 10

Moral Stories in Hindi for Class 10

Moral Stories in Hindi for Class 10 – हमारे दिमाग में हर सेकंड में कई विचार आता है कुछ विचार पॉजिटिव होते हैं तो बहुत सारे नेगेटिव भी होते हैं। जिस तरह एक हाउसवाइफ बर्तनों को अलग-अलग तरह से जमाती है, उसी तरह हमें विचारों को भी अलग-अलग जमाना होगा ।

हमारा मन कैसा है ? -Moral Stories in Hindi for Class 10

किसी राजा के पास एक बकरा था। एक बार उसने एलान किया की “जो कोई इस बकरे को जंगल में चराकर तृप्त करेगा मैं उसे आधा राज्य दे दूंगा।” किंतु बकरे का पेट पूरा भरा है या नहीं इसकी परीक्षा मैं खुद करूँगा। ”  इस एलान को सुनकर एक मनुष्य राजा के पास आकर कहने लगा कि “बकरा चराना कोई बड़ी बात नहीं है।” वह बकरे को लेकर जंगल में गया और सारे दिन उसे घास चराता रहा

शाम तक उसने बकरे को खूब घास खिलाई और फिर सोचा की ”सारे दिन इसने इतनी घास खाई है अब तो इसका पेट भर गया होगा तो अब इसको राजा के पास ले चलूँ।”  बकरे के साथ वह राजा के पास गया । राजा ने थोड़ी सी हरी घास बकरे के सामने रखी तो बकरा उसे खाने लगा। इस पर राजा ने उस मनुष्य से कहा की ”तूने उसे पेट भर खिलाया ही नहीं वर्ना वह घास क्यों खाने लगता।”

सभी ने बकरे का पेट भरने का प्रयत्न किया किंतु ज्यों ही दरबार में उसके सामने घास डाली जाती तो वह फिर से खाने लगता। एक विद्वान् ब्राह्मण ने सोचा ”इस एलान का कोई तो रहस्य है, तत्व है, मैं युक्ति से काम लूँगा’। वह बकरे को चराने के लिए ले गया।

जब भी बकरा घास खाने के लिए जाता तो वह उसे लकड़ी से मारता। सारे दिन में ऐसा कई बार हुआ, अंत में बकरे ने सोचा की यदि मैं घास खाने का प्रयत्न करूँगा तो मार खानी पड़ेगी।  शाम को वह ब्राह्मण बकरे को लेकर राजदरबार में लौटा, बकरे को तो उसने बिलकुल घास नहीं खिलाई थी फिर भी राजा से कहा “मैंने इसको भरपेट खिलाया है। अत: यह अब बिलकुल घास नहीं खायेगा... लो कर लीजिये परीक्षा….”

राजा ने घास डाली लेकिन उस बकरे ने उसे खाया तो क्या देखा और सूंघा तक नहीं…. बकरे के मन में यह बात बैठ गयी थी कि अगर घास खाऊंगा तो मार पड़ेगी.… अत: उसने घास नहीं खाई।

यह बकरा हमारा मन ही है ” बकरे को घास चराने ले जाने वाला ब्राह्मण ” आत्मा” है, राजा “परमात्मा” है। मन को मारो नहीं… मन पर अंकुश रखो…. मन सुधरेगा तो जीवन भी सुधरेगा। अतः मन को विवेक रूपी लकड़ी से रोज पीटो..

कमाई छोटी या बड़ी हो सकती है… पर रोटी की साईज़ लगभग सब घर में एक जैसी ही होती है…!!
अगर आप किसी को छोटा देख रहे हो, तो आप उसे या तो “दूर” से देख रहे हो, या अपने “गुरुर” से देख रहे हो 

मन को काबू में कैसे रखे ? Man par Kabu Kaise rakhe?

विचार मैनेजमेंट से आप अपने आप को एक सुलझा हुआ व्यक्ति बना सकते हैं और अपने दिमाग की बेचैनी को कम कर सकते हैं । आज के अशांति भरे वातावरण में आपको शांति बड़ी मुश्किल से मिलती है और हैरानी की बात है कि इसका इलाज किसी डॉक्टर के पास भी नहीं है। दिमाग शांत रखने का इलाज आप स्वयं है।  इसलिए मैं आज आपको वह तरीके बता रहा हूं जिससे आप अपने मन को काबू में रख सकते हैं इसका अभ्यास रोज करें-

हमारी सबसे बड़ी प्रॉब्लम यह है कि हम विचारों को अलग-अलग छटनी नहीं करते।  हम जैसे विचार आते हैं वैसे हमारे दिमाग में एक कोने में रखते जाते है, बिना उसकी छटनी किये। जिससे हमारा दिमाग व मन बन जाता है कबाड़, फिर उसमें से नकारात्मकता के अलावा कुछ भी नहीं निकलता।

हमारे ज्यादातर समय बीती बातों को याद करने, विश्लेषण करने या फिर भविष्य के प्रोग्राम बनाने में निकल जाता है वर्तमान में हम जीते कहां हैं?

एक बात ध्यान रखें दोस्तों की जो बीत गया है वह वापस नहीं आ सकता।  भविष्य का हमें कुछ पता नहीं और हम वर्षों की प्लानिंग करते रहते हैं । केवल यह समय जिसमें आप अपने डिवाइस पर यह पोस्ट पढ़ रहे हैं। यही सत्य है और हम इसी की परवाह नहीं करते या फिर उसमें पीछे या आगे के विचारों को जोड़कर उसे कमजोर कर देते हैं ।

Sales Motivational Quotes – वर्तमान में फोकस करने की जरूरत है।

Shayari Picture

Jab bhavish dhundhla padne lag jata hai,
tab aapko apne vartman me fokas karne ki jarurt hai. 
जब भविष्य धुंधला पड़ने लग जाता है,
तब आपको अपने वर्तमान में फोकस करने की जरूरत है। Read More

इसका यह मतलब नहीं है कि आप अपनी पिछली बातों को भूल जाए और भविष्य पर गौर ना करें। पिछले अनुभव और भविष्य के परिणाम को ध्यान में रखते ही आज का काम करें और उसी पर ध्यान केंद्रित करें।

पॉजिटिव सोचिए – Positive Mindset

एक व्यक्ति अपने ऑफिस की टेबल पर एक पट्टी रखता था जिसमें लिखा था कि यह “समय बीत जाएगा”  किसी के पूछने पर उसने बताया कि यह बात उसे दुख में साहस व सहारा देती है और सुख में मुझे अपने मर्यादा में रहने का संकेत देती है । इसी बात पर उस इंसान ने अपने धैर्य को काबू में रखा और मन को भी काबू में रखो ।

अपनी भावनाओं को विचारों के प्रति अधिक सावधान और सतर्क रखें, क्योंकि आपके विचार जैसे होंगे वैसे ही आपके कर्म होंगे और वैसा ही आपको फल मिलेगा ।

अगर गेहू बोयोगे तो गेहूं मिलेगा और कांटे बोयोगे तो कांटे मिलेंगे फिर इच्छा आप करोगे कि फल मिल जाए, फिर ना मिलने पर भगवान पर दोष दोगे तो यह कहां तक सही है ।

इस समय को आप से कोई नहीं छीन सकता, तो इसे उपयोगी बनाएं तुरंत उठ खड़े हो जाए और वह करें जो आपको तरक्की की ओर ले जाए। इसी से ही आप कम समय में अधिक काम कर सकेंगे। इससे आपकी कार्यकुशलता बढ़ेगी और आप मनचाहे फील्ड में एक्सपर्ट बन जाएंगे ।


एक जगह पर ध्यान केन्द्रित करे – Focus

हमारी सबसे बड़ी कमजोरी है कि हम अपना ध्यान एक जगह स्थिर नहीं कर पाते। अगर आप एक टास्क को पूरा कर रहे हैं, तो उसमें अपना 100 % दीजिए ना की उस काम को करते हुए मोबाइल देखना या किसी से बात करना या कोई और कार्य के बारे में सोचना करें। ऐसा करने से आप अपने आप को ही धोखा दे रहे हैं। न आपका काम होगा ना दूसरा काम होगा ।

Moral Stories in Hindi for Class 10 – स्वामी विवेकानंद पार्लियामेंट ऑफ रिलीज में भाग लेने के लिए शिकागो गए थे। सम्मेलन में उपस्थित एक महिला जो उनकी बहुत बड़ी प्रशंसक थी, वह किसी दूसरे विद्वान से विवेकानंद को मिलाना चाहती थी । पर वह विद्वान सम्मेलन में अभी तक पहुंचे नहीं थे ।

समय की महत्ता को समझते हुए विवेकानंद वहां पर एक पुस्तक को पढ़ने लगे जब वह महिला उस विद्वान को लेकर आई तब विवेकानंद से उस विद्वान का परिचय करवाना चाहा, महिला ने कई बार स्वामी जी को पुकारा पर स्वामी जी ने उस पर कोई ध्यान नहीं दिया, सिर्फ पुस्तक ही पढ़ते रहे ।

जब स्वामी जी ने पुस्तक रख दी तब महिला ने नाराज होकर बताया विवेकानंद ने कहा – मुझे क्षमा करें विश्वास करें मैंने आपकी बात को बिल्कुल नहीं सुना, मैं पुस्तक पढ़ रहा था । महिला ने उनसे कहा आप ऐसा क्या पुस्तक में पढ़ रहे थे? तो विवेकानंद है कम समय में पुस्तक का सार बता दिया ।

महिला हैरान हो गई क्योंकि वह महीनों से यह पुस्तक पढ़ रही थी पर पुस्तक के बारे में इतनी जानकारी उसे भी नहीं थी । इस कहानी का मुख्य उद्देश्य है कि जब आप अपना सारा ध्यान एक जगह लगाते हैं तो वह उसका परिणाम उत्तम होता है।

मन को काबू में रखने के तरीके – Moral Stories in Hindi for Class 10

  • रोज एक ही स्थान पर निश्चित समय पर एक बिंदु या वस्तु पर ध्यान लगाने से मन वश में रहता है ।
  • जब कभी मन इधर उधर भाग गए तब आप 10 बार गहरी सांस ले वह छोड़े मन तुरंत शांत हो जाएगा।
  • ज्यादा ना बोले और किसी भी परिस्थिति में तब कुछ ना बोले, तब आप वास्तविकता को जान सकेंगे ।
  • रोज अच्छी पुस्तक व अनमोल विचार पढ़े। – Motivational Quotes in Hindi
  • अपने काम से खुश रहे, खुद से प्यार करे।  जब तक आपने द्वारा किए गये काम से खुश नहीं हैं तब तक आप अपने दिमाग को शांति नहीं दे सकते हैं।
  • रोजाना शुबह उठकर शीशे में देखिए, आपका चेहरे आपको ज़रूर बताएगा आप खुश है या गुस्से में।
  • Meditation (योग) एक best solution है जो आपके दिमाग को शांत कर सकता हैं। योग आप शुबह शाम खुली हवा में करने से आपको साफ और तरोताजा वाली हवा मिलेगी।
  • नींद पूरी ले – लगभग 7 घंटे सोना शरीर के लिए काफ़ी लाभदायक है इससे आँखो में भी problems नहीं आती ओर आँखे ख़राब भी नहीं होती हैं।
  • सकारात्मक सोच – एक positive thinking आदमी को क्या से क्या बना सकती है, अगर आपके पास सकारात्मक सोच है तो आप जो बनना चाहते हो आप उसे पूरा करने के लिए बहुत मेहनत करेंगे ओर सफल होंगे।
  • खुश रहें –  इस दुनिया में कोई ऐसा है जो समस्या में नही सब अपने अपने problems में फंसे हुए है, अगर आपको अपनी life में कुछ करना है तो आपको हर वक़्त खुश रहना पड़ेगा जिससे आपके में भी शांति होगी
  • आजकल की दुनिया उसी को पसंद करती है जो हसमुख हो, अगर आप खुश होकर अपने काम को कर हैं तो वो कार्य भी यूँ ही पूरा हो जाता है खुशी-खुशी।
  • गन्दी आदतों से दूर रहे – शराब, सिगरेट, बीड़ी, तंबाकू का सेवन नहीं करना पड़ेगा। bed habits आपके tension या stress कम नहीं बल्कि ये आपके दिमाग का काम करना बंद कर देते हैं और आप बिना tension के रहते हो।
  • मनपसंद गाने सुने – संगीत हमारी जिंदगी का एक अहम तथ्य है जो हमारे दिमाग को शांत रखता है और हमारे शरीर में नयी उफान पैदा करता है, इससे हमारा मन काम में बहुत अच्छे से लगता है।
  • व्यस्त रहने की कोशिश करें – खाली दिमाग शैतान का घर होता है यानि जब आपके पास व्यस्त रहने का कोई विकल्प नहीं होता है, उस समय आपका मन अनियंत्रित विचारों से घिर जाता है। इससे बचने के लिए जरुरी है कि खुद को किसी निश्चित कार्य में व्यस्त रखा जाए।
  • खान-पान पर ध्यान दें – जैसा खावे अन्न,वैसा होवे मन… ये कहावत आपने कभी ना कभी सुनी ही होगी। जैसी प्रकृति हमारे भोजन की होगी, वैसा ही हमारे मन का स्वभाव होगा। अगर आप सात्विक और पौष्टिक भोजन करते हैं तो आपके मन की अस्थिरता और चंचलता भी कम ही होगी।

Conclusion – Man par Kabu kaise Rakhe

आजकल हर कोई टेंशन मैं रहता है और उसका ज़ोर उसके मन (दिमाग) पर पड़ता है। हमेशा के लिए मन पर नियंत्रण कर पाना संभव नहीं हो सकता, इसलिए बेहतर ये है कि हम अपने मन को सही दिशा में लगाए ताकि हम मन के नियंत्रण से बाहर निकल सके।

मन को काबू करना कोई कठिन कार्य नहीं है, वैसे तो इसका जवाब खुद अपने पास ही होता हे, क्यूंकि हर एक की ज़िंदगी मे हर एक की अलग अलग problems होती ही हैं, जो सिर्फ़ उसे खुद को ही पता होता है। इसलिए अगर हम खुद उन समस्याओं पर जीत हासिल कर ले तो मन शांति और खुशहाली से भरपूर रहेगा। 

Moral Stories in Hindi for Class 10 – मन से हारा हुआ इंसान

Rula Dene Wali Shayari

 
Maidan me hara huaa insan fir se jit sakta hai
lekin man se hara huaa insan kbhi nhi jit sakta. 
 
मैदान में हारा हुआ इंसान फिर से जीत सकता है
लेकिन मन से हारा हुआ इंसान कभी नहीं जीत सकता। Read More
Default image
Viren
Author of Kam ki Bat, Software Developer , IT Trainer, Writer

Professional IT trainer with experience in Microsoft’s of software solutions.

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: